फ्री फॉरेक्स डेमो अकाउंट

जानिए दुनिया की शीर्ष 8 क्रिप्टोकरेंसी के दाम

जानिए दुनिया की शीर्ष 8 क्रिप्टोकरेंसी के दाम
Infinix Zero 55 QLED स्मार्ट टीवी की कीमत इंडिया में 34,990 रुपये है। कंपनी ने ऐलान किया है कि इंडिया में इस टीवी की बिक्री 22 सितंबर से फ्लिपकार्ट के जरिए की जाएगी।

'इंडिया टीवी'

दिवंगत पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता की करीबी मित्र वीके शशिकला और उनके परिजनों को ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कषगम (AIADMK) से बाहर निकालने के लिए कभी ‘धर्मयुद्ध’ शुरू करने वाले तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम (OPS) पार्टी नेतृत्व के लिए जारी संघर्ष के बीच शशिकला के भतीजे टीवी दिनाकरन के साथ नजदीकियां बढ़ा रहे हैं. अपदस्थ समन्वयक ओपीएस एक छोटे गुट का नेतृत्व करते हुए अम्मा (दिवंगत जे जयललिता) के वफादारों को एकजुट करने का प्रयास कर रहे हैं, ताकि अन्नाद्रमुक के प्रबल गुट का नेतृत्व कर रहे पूर्व मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी पर पार्टी में दोहरे नेतृत्व को लेकर दबाव बढ़ाया जा सके.

पिछले सीजन में दिखाई दिए चर्चित शार्क अशनीर ग्रोवर अब इस शो में नहीं दिखाई देंगे। उनकी जगह कार देखो ग्रुप के सीईओ के होने की बात आ रही है सामने।

Cryptocurrency: बिटकॉइन और अन्य क्रिप्टोकरेंसी पर भारत में लगेगा प्रतिबंध, खुद की डिजिटल करेंसी की तैयारी में RBI

Published: November 24, 2021 9:13 AM जानिए दुनिया की शीर्ष 8 क्रिप्टोकरेंसी के दाम IST

Bitcoin Cryptocurrency Price

Cryptocurrency: सरकार द्वारा एक नया वित्तीय विनियमन विधेयक पेश करने की घोषणा के बाद भारत निजी क्रिप्टोकरेंसी पर प्रतिबंध लगाने के लिए एक विधेयक पेश करने के लिए तैयार में है. लोकसभा की एक विज्ञप्ति के अनुसार, “भारत में सभी निजी क्रिप्टोकरेंसी को प्रतिबंधित करने वाला विधेयक” अगले सप्ताह से शुरू होने वाले सत्र में संसद में लाए जाने वाले 26 कानूनों में से एक है.

Also Read:

बता दें, भारत में वर्तमान में क्रिप्टोकरेंसी के लिए कोई विनियमन नहीं है – विकेंद्रीकृत डिजिटल मुद्राओं जैसे कि बिटकॉइन, डॉगकोइन और एथेरियम का एक सेट जो किसी भी बैंकिंग नियामक द्वारा विनियमित नहीं है. आपको बता दें, क्रिप्टोकुरेंसी बिल ऐसे समय में सूचीबद्ध होने जा रहा है, जब इस विषय में ज्यादा लोग रुचि दिखा रहे हैं.

सभी ‘निजी क्रिप्टोकरेंसी’ पर प्रतिबंध लगाने वाला विधेयक

  • ‘द क्रिप्टोक्यूरेंसी एंड रेगुलेशन ऑफ ऑफिशियल डिजिटल करेंसी बिल, 2021’, यह पेश करने, विचार करने और पारित करने के लिए नए बिलों की सूची में से एक है.
  • यह विधेयक भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी की जाने वाली आधिकारिक डिजिटल मुद्रा के निर्माण के लिए एक सुविधाजनक ढांचा तैयार करेगा.
  • इस बिल में सभी निजी क्रिप्टोकरेंसी को प्रतिबंधित करने का भी प्रयास है.
  • हालांकि, यह क्रिप्टोकुरेंसी की अंतर्निहित तकनीक और इसके उपयोग को बढ़ावा देने के लिए कुछ अपवाद भी इससे जुड़े हैं.

8 अरब हुई दुनिया की आबादी, 2080 के दशक में 10.4 अरब पहुंचने का अनुमान

8 अरब हुई दुनिया की आबादी, 2080 के दशक में 10.4 अरब पहुंचने का अनुमान

संयुक्त राष्ट्र (UN) के अनुसार, दुनिया की आबादी आठ अरब के ऐतिहासिक आंकड़े को पार कर गई है। UN ने इसे मानवीय विविधता का जश्न मनाने और स्वास्थ्य के क्षेत्र में हुई तरक्की पर खुशी जताने का मौका बताया है जिनके कारण मृत्यु दर में कमी आई है और इंसान की औसत उम्र बढ़ी है। UN ने 2080 के दशक में 10.4 अरब पर वैश्विक आबादी के पीक करने का अनुमान लगाया है।

7 से 8 अरब पहुंचने में लगे 12 साल, 9 अरब पहुंचने तक लगेंगे 15 साल

UN की 'वर्ल्ड पॉपुलेशन प्रोसपेक्ट्स 2022' रिपोर्ट के अनुसार, वैश्विक आबादी की वृद्धि दर गिर रही है और जहां सात से आठ अरब पहुंचने में वैश्विक आबादी को 12 साल लगे, वहीं आठ से नौ अरब पहुंचने में इसे 15 साल लगेंगे। रिपोर्ट के अनुसार, अभी वैश्विक आबादी 1950 के बाद सबसे कम दर से बढ़ रही है और 2020 में इसके बढ़ने की रफ्तार एक प्रतिशत से भी कम जानिए दुनिया की शीर्ष 8 क्रिप्टोकरेंसी के दाम हो गई। आगे इसके और भी गिरने का अनुमान है।

रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि वैश्विक आबादी 2030 तक 8.5 अरब हो सकती है, वहीं 2050 तक यह 9.7 अरब हो जाएगी। 2080 के दशक में 10.4 अरब पर वैश्विक आबादी पीक करेगी और 2100 तक इसी स्तर पर बनी रहेगी। रिपोर्ट के अनुसार, 2050 तक वैश्विक आबादी में होने वाले इजाफे में मात्र आठ देशों की आधी हिस्सेदारी होगी। इन देशों में कांगो, मिस्र, इथोपिया, भारत, नाइजीरिया, पाकिस्तान, फिलीपींस और तंजानिया शामिल हैं।

अगले साल सबसे अधिक आबादी वाला देश बन जाएगा भारत

UN की इस रिपोर्ट में भारत के अगले साल चीन को पीछे छोड़कर सबसे अधिक आबादी वाला देश बनने का अनुमान भी लगाया गया है। अभी 1.426 अरब जनसंख्या के साथ चीन सबसे अधिक आबादी वाला देश है, वहीं 1.412 अरब आबादी के साथ भारत उससे बहुत ज्यादा पीछे नहीं है। रिपोर्ट में 2050 में भारत की आबादी 1.668 अरब पहुंचने का अनुमान है, वहीं तब चीन की आबादी 1.317 अरब होगी।

UN की रिपोर्ट में बताया गया है कि अभी पूर्वी एशिया और दक्षिण-पूर्वी एशिया दुनिया में सबसे अधिक आबादी वाले क्षेत्र हैं। पूर्वी एशिया की आबादी 2.3 अरब है जो कि वैश्विक आबादी की 29 प्रतिशत है, वहीं दक्षिण-पूर्वी एशिया की आबादी 2.1 अरब (वैश्विक आबादी की 26 प्रतिशत) है। पहले इलाके में चीन और दूसरे इलाके में भारत की आबादी सबसे अधिक जानिए दुनिया की शीर्ष 8 क्रिप्टोकरेंसी के दाम है। दोनों की आबादी 1.4 अरब से अधिक है।

OMG :10 बच्चे पैदा करो लाखों का ईनाम और सम्मान पाओ

दुनिया भर के अलग-अलग देशों की अपनी अलग-अलग भौगोलिक और सामाजिक परिस्थितियां हैं। कहीं जनसंख्या अधिक है तो कहीं कम। सरकारें तय करती हैं कि देश की प्रगति और आर्थिक तंत्र के अनुसार उन्हें इसे कब बढ़ाने और कब घटाने की नीति लानी है।

इस समय रूस की एक ऐसी ही नीति चर्चा में है, जो देश में जनसंख्या वृद्धि को जानिए दुनिया की शीर्ष 8 क्रिप्टोकरेंसी के दाम बढ़ावा देने वाली है। इससे पहले चीन की जनसंख्या नीति दुनिया भर में सुर्खियां बटोरती रही है।

वहां सालों तक ‘वन चाइल्ड पॉलिसी‘ (एक बच्चा नीति) के जरिए जनसंख्या को कम किया गया। हालांकि, अब एक बार फिर इसे बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है।

भारत में जनसंख्या नियंत्रण को लेकर भले ही बहस हो रही हो, लेकिन रूस में 10 बच्चों को जन्म देने वाली माताओं को सम्मानित किए जाने की योजना लागू की जा रही है।

रूस में लौटी 1944 में बनी नीति

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अपने देश में सोवियत युग की ‘मदर हीरोइन पॉलिसी‘ एक बार फिर से लाग कर दी है। रूस में गिर रही जन्म दर से निपटने के लिए उन्होंने इस पॉलिसी को लागू किया है।

एक रिपोर्ट के अनुसार, पहली बार साल 1944 में रूसी नेता जोसेफ स्टालिन ने यह नीति लागू की थी। दूसरे विश्व युद्ध में देश की अच्छी-खासी जनसंख्या खत्म होने के बाद ‘मदर हीरोइन‘ नामक नीति लाई गई थी, जिसे सोवियत यूनियन के खत्म होने के बाद बंद कर दिया गया था।

इस टाइटल को पाने वाली महिला को ‘हीरो ऑफ रशिया‘ और ‘हीरो ऑफ लेबर‘ जितना ही सामाजिक सम्मान मिलेगा।

ये महिलाएं होंगी ‘मदर हीरोइन’

मदर हीरोइन‘ का टाइटल उन माताओं को दिया जाएगा, जिन्होंने 10 बच्चों को जन्म दिया और पाला हो। इसके लिए उन्हें ईनाम के तौर पर 1 मिलियन रूबल यानी 13 लाख रुपए से अधिक दिए जाएंगे।

यह अवॉर्ड उन्हें 10वें बच्चे के एक साल पूरा करने के बाद मिल जाएगा। उन माताओं को भी यह टाइटल मिलेगा, जो युद्ध या आतंकी हमले में अपना कोई बेटा या बेटी खो चुकी हैं। रूसी राष्ट्रपति ने यह फैसला रूस की गिरती जन्म दर की वजह से लिया है।

साल 2021 और 2022 में रूस की मृत्यु दर, जन्म दर के मुकाबले काफी अधिक रही है। इससे पहले फिनलैंड और चीन में भी लोगों को ज्यादा बच्चे पैदा करने के लिए लुभावने ऑफर्स दिए जा चुके हैं क्योंकि उनके यहां भी जन्म दर तेजी से कम हो रही है।

पंजाब केसरी से साभार

यह भी पढ़ें :-

  • विश्व के ऐसे देश जंहा महिलाओं की आबादी है पुरुषों से ज़्यादा
  • दुनिया की सबसे जवान जनजाति, हुंजा
  • एक ऐसा देश जहाँ मर्दों को दो शादियां करना है जरुरी, नहीं तो

Cryptocurrency jobs: बाइनेंस बड़े स्‍तर पर करेगा हायरिंग, दिसंबर तक इतने लोगों को रोजगार देने का टारगेट

Binance hiring:जानिए दुनिया की शीर्ष 8 क्रिप्टोकरेंसी के दाम बाइनेंस के सीईओ चांगपेंग झाओ (Changpeng Zhao) ने ऐलान किया है कि उनकी कंपनी साल के आखिरी तक कर्मचारियों की संख्या बढ़ाने वाली है.

alt

5

alt

5

alt

रेटिंग: 4.46
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 72
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *