भारत में विदेशी मुद्रा व्यापार के लिए रणनीतियाँ

ट्रेडर्स वे सारांश

ट्रेडर्स वे सारांश

एफएसएसएआई लाइसेंस के लिए आवेदन कैसे किया जा सकता है?

एफएसएसएआई अर्थात भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण भारत में चले रहे विभिन्न खाद्य व्यवसायों की निगरानी करता है। सभी प्रकार के खाद्य उत्पादों के निर्माण, प्रोसेसिंग, स्टोरेज, डिस्ट्रिब्यूशन एवं बिक्री में शामिल खाद्य व्यवसाय ट्रेडर्स वे सारांश संचालकों(फूड बिजनेस ऑपरेटरों) को एफएसएसएआई पंजीकरण या लाइसेंस प्राप्त करना अनिवार्य है।

एफएसएसएआई रजिस्ट्रेशन एक 14 अंकों की पंजीकरण या लाइसेंस संख्या होती है जो सभी खाद्य पैकेजों पर छपी हुई होती है। एफएसएसएआई पंजीकरण का उद्देश्य खाद्य उत्पादों की गुणवत्ता बनाए रखना और खाद्य व्यवसायियों को अधिक जवाबदेह बनाना है।

किस-किस को अपना एफएसएसएआई रजिस्ट्रेशन करवाना चाहिए?

  • कोई भी खाद्य व्यवसायी या एफबीओ जिसका सालाना टर्नओवर रु. 12 लाख या उससे कम हो।
  • खाद्य उत्पादों का निर्माण तथा उनकी बिक्री करने वाले सभी छोटे खुदरा विक्रेता।
  • खाद्य बिक्री करने वाले सभी अस्थायी स्टॉलधारकों को।
  • कोई भी व्यक्ति जो कैटरिंग को छोड़कर किसी सामाजिक सभा या बड़े आयोजन में भोजन वितरित करने का कार्य करता है।
  • खाद्य व्यवसाय करने वाले सभी प्रकार के लघु या कुटीर उद्योगों को।

एफएसएसएआई रजिस्ट्रेशन करवाने के क्या लाभ हैं?

आजकल के समय में उपभोक्ता अपने द्वारा खाए जाने वाले भोजन की गुणवत्ता के बारे में भी अधिक जागरूक हो गए हैं। आजकल उपभोक्ता अपने आहार के विकल्पों का चुनाव करते समय इस बारे में भी जानना चाहते हैं कि वे जिस भोजन का उपभोग कर रहे हैं वह कितना सुरक्षित और अच्छी गुणवत्ता का है। वर्तमान ट्रेडर्स वे सारांश में अधिकांश उपभोक्ता उन्हीं खाद्य पदार्थों का उपभोग करना पसंद करते हैं जो कि गुणवत्ता प्रमाणित हों।

  • विभिन्न प्रकार के कानूनी लाभ प्राप्त होना-

एफएसएसएआई रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया के लंबे तथा मुश्किल होने के कारण अधिकांश फूड बिजनेस ऑपरेटर अपना एफएसएआई पंजीकरण नहीं करवाते जिसकी वजह से उनको कई प्रकार की कानूनी परेशानियों का सामना करना पड़ता है और कई बार जुर्माना भी भरना पड़ता है। इस पंजीकरण को करवाने के बाद आपको कई प्रकार के कानूनी लाभ प्राप्त होते हैं और आप अपने व्यापार के विस्तार के लिए बैंक से कर्ज भी आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

  • एफएसएसएआई लोगो का उपयोग कर पाने की स्वतंत्रता-

एक बार जब आप लाइसेंस प्राप्त कर लेते हैं, तो आप एफएसएसएआई लोगों को अपने मेनू कार्ड में भी दिखा सकते हैं। यह आपको उन खाद्य व्यवसायियों से अलग करता है जिनके पास खाद्य लाइसेंस नहीं है। सभी प्रकार के पैकेज्ड, फूड के पैकेट तथा डिब्बों पर भी एफएसएसएआई नंबर का छपा होना आवश्यक है।

  • बाजार में व्यापार की साख और अलग पहचान बनना-

एफएसएसएआई लोगो आपके व्यापार को बाजार में एक विशिष्ट मान्यता प्रदान करने का कार्य करता है जिससे कि ग्राहक आपके उत्पाद को उसी प्रकार के किसी अन्य उत्पाद से अलग कर पाते हैं। यह आपको अपना स्वयं का एक खास ब्रांड-नेम विकसित करने में मदद करता है।

एफएसएसएआई रजिस्ट्रेशन कितने प्रकार के होते हैं?

भारत में सामान्यतः तीन प्रकार के खाद्य पंजीकरण किए जाते हैं जो कि किसी भी व्यापार के ट्रेडर्स वे सारांश स्तर तथा उसके टर्नओवर के ऊपर आधारित होते हैं। इनके बारे में नीचे विस्तार से बताया जा रहा है-

  • सेंट्रल या केंद्रीय लाइसेंस- विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों के आयातक, निर्यातक तथा बड़े पैमाने पर खाद्य व्यवसाय में लगे हुए फूड बिजनेस ऑपरेटरों को केंद्र सरकार से सेंट्रल एफएसएआई लाइसेंस प्राप्त करना होता है। जिन व्यवसायों का टर्नओवर 20 करोड रूपये या इससे अधिक होता है उनको केंद्रीय एफएसएसएआई लाइसेंस प्राप्त करना अनिवार्य है।
  • स्टेट या राज्य लाइसेंस- छोटे तथा माध्यम आकार की खाद्य इकायों तथा व्यापारियों, ट्रांसपोर्टरों तथा ट्रेडर्स आदि को जिस भी राज्य में वे व्यापार कर रहें है वहाँ की सरकार से स्टेट अर्थात राज्य एफएसएआई लाइसेंस प्राप्त करना होता है। राज्य स्तरीय लाइसेंस प्राप्त करने हेतु ट्रेडर्स वे सारांश किसी व्यवसाय का टर्नओवर 12 लाख से 20 करोड़ रूपयों के बीच होना चाहिए।
  • सामान्य या बेसिक रजिस्ट्रेशन- सभी प्रकार के छोटे खाद्य व्यवसायी जिनका सालाना टर्नओवर 12 लाख रूपयों से कम है उनको बेसिक एफएसएसएआई रजिस्ट्रेशन करवाना होता है। इनमें छोटे खाद्य व्यवसायी, दुकानदार एवं रेहडीवाले आते हैं।

एफएसएसएआई पंजीकरण प्राप्त करवाने के लिए किन-किन दस्तावेज़ों की आवश्यकता होती है?

सामान्यतः एफएसएसएआई रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होती है-

  • निवास प्रमाण पत्र
  • पहचान प्रमाण-पत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • लेआउट प्लान
  • आपके पास मौजूद सभी उपकरणों का विवरण
  • नगर पालिका से प्राप्त एनओसी प्रमाण-पत्र
  • आपकी व्यापार का एमओए और एओए प्रमाण-पत्र
  • आपके द्वारा प्रदान की जाने वाली खाद्य पदार्थों की सूची
  • आपका आयात-निर्यात का कोड
  • जल परीक्षण की रिपोर्ट

एफएसएसएआई रजिस्ट्रेशन करवाने की पूरी प्रक्रिया क्या है?

पहले के समय में अधिकांश व्यक्ति ऑफलाइन तरीके से ही अपना एफएसएसएआई रजिस्ट्रेशन करवाते थे, परंतु आजकल यह कार्य ऑनलाइन तरीके से भी सुविधाजनक तरीके से पूर्ण किया जा सकता है।

यदि आप अपने व्यापार का एफएसएसएआई रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए किसी अच्छे ऑनलाइन पोर्टल की तलाश में हैं तो आप आईजीएस डिजिटल सेंटर लिमिटेड के पोर्टल का उपयोग करके आसानी से अपना रजिस्ट्रेशन ट्रेडर्स वे सारांश करवा सकते हैं।

आईजीएस डिजिटल सेंटर लिमिटेड के पोर्टल के माध्यम से एफएसएआई रजिस्ट्रेशन करवाने की पूरी प्रक्रिया निम्नलिखित है-

  • एफएसएसएआई रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए सबसे पहले आईजीएस डिजिटल सेंटर लिमिटेड के पोर्टल पर जाकर एफएसएसएआई के फॉर्म-बी को भरें।
  • इस आवेदन-पत्र के साथ आपको अपने कुछ दस्तावेज भी पोर्टल पर अटैच करने होंगे जैसे कि एक शपथ-पत्र और स्वघोषणा पत्र।
  • इसके पश्चात आप उस अवधि का चुनाव करें जिसके लिए आप अपना एफएसएसएआई रजिस्ट्रेशन लाइसेंस प्राप्त करना चाहते हैं। यह लाइसेंस सामान्यतः 1 से 5 वर्ष तक की अवधि तक के लिए प्रदान किया जाता है।
  • इसके बाद आप किसी भी ऑनलाइन माध्यम से लाइसेंस आवेदन की फीस भरें । यह फीस 2000 रूपये से 5000 रूपये के बीच हो सकती है।
  • विभाग सात दिनों के भीतर इस आवेदन को स्वीकार या अस्वीकार कर सकता है।
  • यदि आपके के आवेदन को अस्वीकार कर दिया जाता है तोविभाग द्वारा इसकी जानकारी आपको लिखित रूप में भेज दी जाएगी।
  • यदि इस आवेदन को विभाग द्वारा स्वीकार कर लिया जाता है, तो विभाग द्वारा फोटो तथा एफएसएसएआई संख्या युक्त एक प्रमाण पत्र आपके के नाम पर जारी कर दिया जाएगा।

इस प्रमाणपत्र को आपको व्यवसाय ट्रेडर्स वे सारांश के घंटों के दौरान व्यवसाय के स्थान पर प्रमुखता से प्रदर्शित करना होगा। इस लाइसेंस की समयावधि समाप्त होने के 30 दिनों के भीतर इस लाइसेंस का पुनः नवीनीकरण करवाना भी अनिवार्य है।

आईजीएस डिजिटल सेंटर लिमिटेड भारत की एक अग्रणी डिजिटल सेवा प्रदाता कंपनी है जिसके साथ जुड़कर आप अपने ही स्तर पर 300 से अधिक सरकारी एवं गैर-सरकारी सेवाएं अपने ग्राहकों को प्रदान कर सकते हैं और अच्छी कमाई कर सकते हैं। आईजीएस डिजिटल सेंटर लिमिटेड के द्वारा प्रदान की जाने वाली मुख्य सेवाओं में ट्रैवल बुकिंग सेवा, एईपीएस सेवा, मनी ट्रांसफर सेवा, सीए ट्रेडर्स वे सारांश सेवाएं, लीगल सेवाएं, आदि प्रमुख हैं।

ट्रेडर्स वे सारांश

अस्वीकरण :
इस वेबसाइट पर दी की गई जानकारी, प्रोडक्ट और सर्विसेज़ बिना किसी वारंटी या प्रतिनिधित्व, व्यक्त या निहित के "जैसा है" और "जैसा उपलब्ध है" के आधार पर दी जाती हैं। Khatabook ब्लॉग विशुद्ध रूप से वित्तीय प्रोडक्ट और सर्विसेज़ ट्रेडर्स वे सारांश की शैक्षिक चर्चा के लिए हैं। Khatabook यह गारंटी नहीं देता है कि सर्विस आपकी आवश्यकताओं को पूरा करेगी, या यह निर्बाध, समय पर और सुरक्षित होगी, और यह कि त्रुटियां, यदि कोई हों, को ठीक किया जाएगा। यहां उपलब्ध सभी सामग्री और जानकारी केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है। कोई भी कानूनी, वित्तीय या व्यावसायिक निर्णय लेने के लिए जानकारी पर भरोसा करने से पहले किसी पेशेवर से सलाह लें। ट्रेडर्स वे सारांश इस जानकारी का सख्ती से अपने जोखिम पर उपयोग करें। वेबसाइट पर मौजूद किसी भी गलत, गलत या अधूरी जानकारी के लिए Khatabook जिम्मेदार नहीं होगा। यह सुनिश्चित करने के हमारे प्रयासों के बावजूद कि इस वेबसाइट पर निहित जानकारी अद्यतन और मान्य है, Khatabook किसी भी उद्देश्य के लिए वेबसाइट की जानकारी, प्रोडक्ट, सर्विसेज़ या संबंधित ग्राफिक्स की पूर्णता, विश्वसनीयता, सटीकता, संगतता या उपलब्धता की गारंटी नहीं देता है।यदि वेबसाइट अस्थायी रूप से अनुपलब्ध है, तो Khatabook किसी भी तकनीकी समस्या या इसके नियंत्रण से परे क्षति और इस वेबसाइट तक आपके उपयोग या पहुंच के परिणामस्वरूप होने वाली किसी भी हानि या क्षति के लिए उत्तरदायी नहीं होगा।

We'd love to hear from you

We are always available to address the needs of our users.
+91-9606800800

एकत्रीकरण क्या है मतलब और उदाहरण

फ्यूचर्स मार्केट्स में एग्रीगेशन एक ऐसी प्रक्रिया है जो एक ट्रेडर या ट्रेडर्स के समूह के स्वामित्व या नियंत्रण वाली सभी फ्यूचर पोजीशन को एक एग्रीगेट पोजीशन में जोड़ती है। वित्तीय नियोजन अर्थ में एकत्रीकरण, हालांकि, एक समय बचाने वाली लेखा पद्धति है जो विभिन्न संस्थानों से किसी व्यक्ति के वित्तीय डेटा को समेकित करती है।

ग्राहकों के खातों की सेवा करते समय सलाहकारों के साथ एकत्रीकरण तेजी से लोकप्रिय हो रहा है, क्योंकि वे खाते को संबंधित श्रेणियों में विभाजित करने से पहले ग्राहक के साथ खातों के बारे में अधिक स्पष्ट, अधिक आसानी से समझे जाने वाले तरीके से चर्चा करने में सक्षम होते हैं।

  • वित्तीय सलाहकार और बैंक अपने ग्राहक की जानकारी एकत्र करते हैं ताकि वे आसानी से उस ग्राहक के वित्त की स्पष्ट तस्वीर तैयार कर सकें। साथ ही, यह क्लाइंट के लिए अतिरिक्त स्तर की सुरक्षा जोड़ता है।
  • सलाहकार और योजनाकार एक दीवार पर तब टकराते हैं जब उनके ग्राहक उन्हें पूरी पहुँच नहीं देते हैं, और उनका तर्क है कि यह उन्हें अपने ग्राहक के वित्त पर सटीक सलाह देने के लिए आवश्यक पूर्ण-चित्र दृश्य की अनुमति नहीं देता है।
  • एकत्रीकरण दोनों पक्षों के लिए फायदेमंद है, लेकिन बढ़त वित्तीय सलाहकार को जाती है, जो ग्राहक की सर्विसिंग में अंतर देख सकता है या नहीं देख सकता है, जहां वे किसी उत्पाद या सेवा को बेचने में सक्षम हो सकते हैं।

एकत्रीकरण कैसे काम करता है

वित्तीय सलाहकार अन्य वित्तीय संस्थानों में आयोजित निवेशकों के खुदरा खातों से स्थिति और लेनदेन की जानकारी एकत्र करने के ट्रेडर्स वे सारांश लिए खाता-एकत्रीकरण तकनीक का उपयोग करते हैं। एग्रीगेटर निवेशकों और उनके सलाहकारों को दैनिक अपडेट सहित निवेशक की संपूर्ण वित्तीय स्थिति के बारे में केंद्रीकृत दृष्टिकोण प्रदान करते हैं।

वित्तीय योजनाकार प्रबंधित और गैर-प्रबंधित दोनों खातों को संभालते हैं। प्रबंधित खातों में सलाहकार के नियंत्रण में संपत्तियां होती हैं जो सलाहकार के संरक्षक के पास होती हैं। संरक्षक से सीधे लिंक के माध्यम से ग्राहक के डेटा को कैप्चर करने के लिए योजनाकार पोर्टफोलियो प्रबंधन और रिपोर्टिंग सॉफ़्टवेयर का उपयोग करते हैं। योजनाकार के लिए सभी खातों का होना महत्वपूर्ण है क्योंकि पूरे संग्रह के बिना उन्हें एकत्र करना उस ग्राहक के वित्त की गलत तस्वीर पेश करेगा।

इसके अतिरिक्त, गैर-प्रबंधित खातों में ऐसी संपत्तियां होती हैं जो सलाहकार के प्रबंधन के अधीन नहीं होती हैं लेकिन फिर भी ग्राहक की वित्तीय योजना के लिए महत्वपूर्ण होती हैं। उदाहरणों में 401 (के) खाते, व्यक्तिगत जांच या बचत खाते, पेंशन और क्रेडिट कार्ड खाते शामिल हैं।

जब क्लाइंट लॉग-इन जानकारी प्रदान नहीं करता है, तो प्रबंधित खातों के साथ सलाहकार की चिंता पहुंच की कमी है। सलाहकार गैर-प्रबंधित खातों पर दैनिक अद्यतन के बिना वित्तीय नियोजन और परिसंपत्ति प्रबंधन के लिए एक व्यापक दृष्टिकोण की पेशकश नहीं कर सकते।

खाता एकत्रीकरण का महत्व

खाता एकत्रीकरण सेवाएं अधिकांश खुदरा बैंकों या ब्रोकरेज में रखे गए खातों के बारे में वर्तमान स्थिति और लेनदेन की जानकारी प्राप्त करने के लिए एक सुविधाजनक तरीका प्रदान करके समस्या का समाधान करती हैं। क्योंकि निवेशकों की गोपनीयता सुरक्षित है, प्रत्येक गैर-प्रबंधित खाते के लिए उनकी व्यक्तिगत-पहुंच जानकारी का खुलासा करना अनावश्यक है।

वित्तीय योजनाकार ग्राहक की कुल संपत्ति, देनदारियों और निवल मूल्य का विश्लेषण करने के लिए समग्र खाता सॉफ़्टवेयर का उपयोग करते हैं; आय और व्यय; और संपत्ति, देयता, निवल मूल्य और लेनदेन मूल्यों में रुझान। सलाहकार ट्रेडर्स वे सारांश निवेश संबंधी निर्णय लेने से पहले ग्राहक के पोर्टफोलियो में विभिन्न जोखिमों का भी आकलन करता है।

खाता एकत्रीकरण के प्रभाव

कई एकत्रीकरण सेवाएं बैंकों की उपभोक्ता-सामना करने वाली वेबसाइटों का उपयोग करने के बजाय ब्रोकरेज फर्मों और वित्तीय संस्थानों के बीच सीधे डेटा कनेक्शन प्रदान करती हैं। ग्राहक समग्र सेवाओं के लिए व्यक्तिगत जानकारी प्रदान करके वित्तीय संस्थानों को अपनी सहमति देते हैं।

पॉलीथिन पर पहली बार दो दुकानदारों के खिलाफ एफआईआर

पॉलीथिन पर पहली बार दो दुकानदारों के खिलाफ एफआईआर

रायपुर। प्रतिबंधित पॉलीथिन कैरी बैग रखने पर राजधानी में पहली बार दो दुकानदारों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई है। नगर निगम के राजस्व विभाग ने स्टेशन रोड की जिन दो दुकानों से कैरी बैग जब्त किया, उन्हें सील करने की कार्रवाई भी की है।

बुधवार को नगर निगम के राजस्व विभाग के उपायुक्त लवकुश सिंगरौल, राजस्व अधिकारी अरुण दुबे, सहायक राजस्व अधिकारी सुरेंद्र दुबे, निगम मुख्यालय के उड़नदस्ता प्रभारी आभास मिश्रा समेत अमले ने स्टेशन चौक के आसपास की दुकानों की जांच की। इस दौरान रवि प्लास्टिक और भोलेनाथ ट्रेडर्स में बड़ी मात्रा में प्रतिबंधित पॉलीथिन कैरी बैग मिला। निगम अधिकारियों के मुताबिक लगभग दस क्विंटल पॉलीथिन कैरी बैग जब्त किया गया है। इसकी जानकारी उपायुक्त श्री सिंगरौल ने निगम आयुक्त डॉ. सारांश मित्तर को दी। आयुक्त ने दोनों दुकानों को सील करने और दुकानदारों के खिलाफ पुलिस थाने में एफआईआर कराने के निर्देश दिए। कार्रवाई करने पहुंचे अमले ने पहले तो दुकानों को सील करने की कार्रवाई की। इसके बाद वे गंज थाना पहुंचे, जहां दुकानदारों के खिलाफ एफआईआर कराई गई। नगर निगम पॉलीथिन कैरी बैग की जब्ती पर दुकानों की सील करने की कई कार्रवाई कर चुका है, लेकिन पुलिस में शिकायत पहली बार दर्ज हुई है। अब नगर निगम दुकानों का लाइसेंस भी निरस्त कर सकता है। पॉलीथिन की जब्ती पर एफआईआर होती है तो इसमें सजा और जुर्माने का भी प्रावधान है।

पॉलीथिन पर पहली बार दो दुकानदारों के खिलाफ एफआईआर

पॉलीथिन पर पहली बार दो दुकानदारों के खिलाफ एफआईआर

रायपुर। प्रतिबंधित पॉलीथिन कैरी बैग रखने पर राजधानी में ट्रेडर्स वे सारांश पहली बार दो दुकानदारों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई है। नगर निगम के राजस्व विभाग ने स्टेशन रोड की जिन दो दुकानों से कैरी बैग जब्त किया, उन्हें सील करने की कार्रवाई भी की है।

बुधवार को नगर निगम के राजस्व विभाग के उपायुक्त लवकुश सिंगरौल, राजस्व अधिकारी अरुण दुबे, सहायक राजस्व अधिकारी सुरेंद्र दुबे, निगम मुख्यालय के उड़नदस्ता प्रभारी आभास मिश्रा समेत अमले ने स्टेशन चौक के आसपास की दुकानों की जांच की। इस दौरान रवि प्लास्टिक और भोलेनाथ ट्रेडर्स में बड़ी मात्रा में प्रतिबंधित पॉलीथिन कैरी बैग मिला। निगम अधिकारियों के मुताबिक लगभग दस क्विंटल पॉलीथिन कैरी बैग जब्त किया गया है। इसकी जानकारी उपायुक्त श्री सिंगरौल ने निगम आयुक्त डॉ. सारांश मित्तर को दी। आयुक्त ने दोनों दुकानों को सील करने और दुकानदारों के खिलाफ पुलिस थाने में एफआईआर कराने के निर्देश दिए। कार्रवाई करने पहुंचे अमले ने पहले तो दुकानों को सील करने की कार्रवाई की। इसके बाद वे गंज थाना पहुंचे, जहां दुकानदारों के खिलाफ एफआईआर कराई गई। नगर निगम पॉलीथिन कैरी बैग की जब्ती पर दुकानों की सील करने की कई कार्रवाई कर चुका है, लेकिन पुलिस में शिकायत पहली बार दर्ज हुई है। अब नगर निगम दुकानों का लाइसेंस भी निरस्त कर सकता है। पॉलीथिन की जब्ती पर एफआईआर होती है तो इसमें सजा और जुर्माने का भी प्रावधान है।

रेटिंग: 4.98
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 860
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *