व्यापारिक मुद्रा जोड़े

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं

प्रणय रॉय और राधिका रॉय का इस्तीफा, NDTV में क्या हो रहा है?

प्रणय रॉय और राधिका रॉय का इस्तीफा, NDTV में क्या हो रहा है?

समाचार चैनल NDTV को खरीदने के अडाणी समूह के ओपन ऑफर के बीच प्रणय रॉय और राधिका रॉय ने निदेशक पदों से इस्तीफा दे दिया है। मंगलवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को भेजे पत्र में कंपनी ने कहा कि मंगलवार को हुई बैठक में बोर्ड के निदेशकों ने प्रणय और राधिका रॉय के इस्तीफों को मंजूरी दे दी है और सुदीप्त भट्टाचार्य, संजय पुगलिया और सेंथिल चंगलवारयान को बोर्ड में शामिल किया गया है।

कैसे लाया गया ओपन ऑफर?

अगस्त में जानकारी सामने आई थी कि गौतम अडाणी के अडाणी समूह ने NDTV में 29.18 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदी है। तब समूह ने कहा था कि वह 26 प्रतिशत और हिस्सेदारी खरीदने के लिए ओपन ऑफर लाएगा। 22 नवंबर को समूह ने ओपन ऑफर की शुरुआत कर दी, जो 5 दिसंबर तक जारी रहेगा। हालांकि, जब अगस्त में हिस्सेदारी खरीदने की बात आई थी, तब NDTV ने कहा था कि संस्थापकों की सहमति के बिना यह सौदा हुआ है।

क्यों लाया गया ओपन ऑफर?

अधिग्रहणकर्ता कंपनी के शेयरहोल्डर को एक निश्चित राशि पर अपने शेयर बेचने के लिए ओपन ऑफर देता है। ऐसा तब किया जाता है कि जब वह कंपनी की पब्लिक शेयरहोल्डिंग में 25 प्रतिशत से अधिक का हिस्सेदार होता है। अडाणी समूह के पास कंपनी की 29.18 प्रतिशत हिस्सेदारी है और इससे कंपनी का नियंत्रण भी उसके पास जा सकता है। ऐसे में समूह को ओपन ऑफर लाना पड़ा ताकि कंपनी छोड़ने के इच्छुक छोटे शेयरहोल्डर अपना हिस्सा बेचकर निकल सकें।

सोमवार को ट्रांसफर हुए शेयर

इससे पहले सोमवार को समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने खबर दी थी कि NDTV संस्थापकों की कंपनी ने अपने शेयर अडाणी समूह की एक कंपनी को जारी कर दिए हैं। इससे अडाणी समूह NDTV पर नियंत्रण के एक कदम और नजदीक आ गया है। हालांकि, कंपनी के संस्थापक रॉय अडाणी को रोकने के लिए काउंटर ऑफर ला सकते थे, लेकिन उसके लिए बड़ी मात्रा में धन की जरूरत थी।

इसकी शुरुआत कैसे हुई?

2009 और 2010 में विश्वप्रधान कमर्शियल प्राइवेट लिमिटेड (VCPL) ने राधिका रॉय और प्रणय रॉय की कंपनी RRPR होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड को 403.8 करोड़ रुपये का ब्याज मुक्त कर्ज दिया था। इसके बदले RRPR ने VCPL को वारंट जारी किए थे। VPCL के पास इन वारंट को RRPR में 99.9 प्रतिशत हिस्सेदारी में बदलने का विकल्प था। RRPR को कर्ज देने के लिए VPCL ने मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की कंपनी रिलायंस स्ट्रैटेजिक वेंचर से फंड लिया था।

फिर हुई अडाणी की एंट्री

यहां तक अडाणी समूह कहीं भी इस डील में शामिल नहीं था, लेकिन 23 अगस्त को समूह ने ऐलान किया कि AMG मीडिया नेटवर्क्स लिमिटेड ने VCPL को 113.7 करोड़ रुपये में खरीद लिया है। AMG मीडिया अडाणी एंटरप्राइजेज लिमिटेड की कंपनी है।

ऐसे गई अडाणी के पास NDTV की हिस्सेदारी

यह अधिग्रहण होने तक NDTV ने VCPL का कर्ज चुकाया नहीं था। इसके बाद VCPL ने NDTV को यह कहते हुए नोटिस जारी कर दिया कि वह कर्ज के बदले जारी वारंट को RRPR में 99.5 प्रतिशत हिस्सेदारी में बदल रही है। RRPR के पास NDTV के 29.18 प्रतिशत शेयर थे। ऐसे में RRPR की NDTV में हिस्सेदारी VCPL के जरिये अडाणी समूह की AMG मीडिया के पास चली गई है।

औद्योगिक पोंजी योजनाओं के वर्षों के बाद अधिकांश क्रिप्टो कंपनियां ‘दुर्घटनाग्रस्त’ हो जाएंगी: पलान्टिर सह-संस्थापक

औद्योगिक पोंजी योजनाओं के वर्षों के बाद अधिकांश क्रिप्टो कंपनियां 'दुर्घटनाग्रस्त' हो जाएंगी: पलान्टिर सह-संस्थापक

सॉफ्टवेयर कंपनी पलान्टिर के निवेशक और सह-संस्थापक जो लोंसडेल ने कहा, “सामान्य तौर पर, मुझे लगता है कि ज्यादातर चीजें दुर्घटनाग्रस्त हो रही हैं।” विभिन्न क्रिप्टोक्यूरेंसी ऋणदाता, क्रिप्टो टोकन, और पारिस्थितिकी तंत्र के अन्य भाग “पोंजी स्कीम थे, और इसका कोई मतलब नहीं था।”

उन्होंने कहा, “यह वही है जो आप किसी भी स्थिति में उम्मीद करेंगे जहां आपके पास चीजें खराब हों।”

WATCH PALANTIR के क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं सह-संस्थापक CRYPTO एक्सचेंजों के भविष्य की भविष्यवाणी करते हैं:

पिछले कई वर्षों में, लोंसडेल ने कहा, “क्रिप्टो परियोजनाओं का मूल्यांकन नकदी प्रवाह के आधार पर नहीं किया गया है, न कि अर्थव्यवस्था में मूल्य निर्माण के आधार पर, बल्कि लोग इसके लिए क्या भुगतान करने जा रहे हैं।”

एफटीएक्स के संस्थापक सैम बैंकमैन-फ्राइड को एफटीएक्स के पतन में उनकी भागीदारी के लिए कानूनी प्रभाव का सामना करना पड़ रहा है।
(गेटी इमेज के जरिए जेना मून / ब्लूमबर्ग)

FTX, बहामास में स्थित एक मुद्रा विनिमय, अध्याय 11 दिवालियापन के लिए दायर कम से कम एक अरब डॉलर के नुकसान के बाद नवंबर की शुरुआत में।

एक और बड़ी क्रिप्टो कंपनी, BlockFi, भी उसने पिछले सप्ताह दिवालिया घोषित किया। अन्य क्रिप्टो कंपनियां जैसे सेल्सियस नेटवर्क और वोयाजर डिजिटल अध्याय 11 की कार्यवाही का अनुसरण करती हैं।

लोंसडेल ने कहा, दिवालियापन घोषित करने वाली कुछ कंपनियों में “बहुत भ्रष्टाचार था,” हालांकि उन्होंने क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं केवल एफटीएक्स का नाम दिया। “लंबे समय तक, क्रिप्टोकुरेंसी का एक अच्छा हिस्सा है, लेकिन हमने पिछले तीन, चार, पांच वर्षों में क्रिप्टोकुरेंसी में जो कुछ देखा है, वह सस्ते पैसे से संचालित एक सट्टा बुलबुला है और इनमें से कई पोंजी योजनाओं द्वारा संचालित है।”

पलान्टिर के सह-संस्थापक जो लोंसडेल का मानना ​​​​है कि उद्योग में कॉर्पोरेट मंदी की एक श्रृंखला का सामना करने के बावजूद डिजिटल मुद्राओं का अभी भी एक मजबूत भविष्य है।

पलान्टिर के सह-संस्थापक जो लोंसडेल का मानना ​​​​है कि उद्योग में कॉर्पोरेट मंदी की एक श्रृंखला का सामना करने के बावजूद डिजिटल मुद्राओं का अभी भी एक मजबूत भविष्य है।
(फॉक्स न्यूज डिजिटल/जॉन माइकल रश)

में हाल की उथल-पुथल के बावजूद क्रिप्टोक्यूरेंसी बाजारलोंसडेल के अनुसार, क्रिप्टो-आधारित प्रौद्योगिकियां अधिक क्षमताओं का विकास करना जारी रखेंगी। लोंसडेल ने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी में उपयोग की जाने वाली ब्लॉकचेन तकनीक पारंपरिक सरकार या बैंकिंग बुनियादी ढांचे के उपयोग के बिना पैसे को ऑनलाइन स्थानांतरित करने की अनुमति देती है, जिससे वैश्विक स्तर पर धन को स्थानांतरित करने का एक नया और महत्वपूर्ण तरीका सक्षम होता है।

“अधिक विकेन्द्रीकृत शक्ति और बिटकॉइन जैसा कुछ होना समझ में आता है,” उन्होंने कहा। “उन्होंने लोगों को पाने में मदद की रूस से पैसावेनेजुएला से, चीन से।

“यह वास्तव में बुरी तरह से व्यवहार करने वाली सरकारों की तुलना में वित्तीय प्रणाली को अधिक स्वतंत्रता की अनुमति देता है,” लोंसडेल ने जारी रखा।

ब्लॉकचेन तकनीक उद्यम पूंजीपति ने कहा कि यह भविष्य का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बना रहेगा।

“यह पारिस्थितिकी तंत्र, लंबे समय में, मुझे लगता है कि आपके पास इनमें से कुछ चीजें हैं जो दुनिया के लिए फायदेमंद साबित होती हैं,” उन्होंने कहा। “लेकिन यह सब अब हम नहीं देखते हैं।”

क्रिप्टोक्यूरेंसी के भविष्य पर जो लोंसडेल के साथ पूरा साक्षात्कार देखने के लिए, यहां क्लिक करें यहाँ पर.

खूबसूरती का जाल बिछाकर, लगा दी 30 हजार करोड़ की चपत, जानिए कौन है ये Crypto-Queen

Cryptocurrency की वैल्यू फिलहाल काफी कम चल रही है. इसमें निवेशकों के काफी पैसे क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं लगे हुए हैं. पिछले साल इसकी Cryptocurrency को लेकर काफी बातचीत चल रही थी. लेकिन, क्या आपको Crypto Queen के बारे क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं में पता है जिन्होंने 30 हजार करोड़ रुपये की चपत लगा दी है. आइए नीचे खबर में जानते है विस्तार से।

खूबसूरती का जाल बिछाकर, लगा दी 30 हजार करोड़ की चपत, जानिए कौन है ये Crypto-Queen

HR breaking News, Digital Desk- Cryptocurrency को लेकर अभी ज्यादा चर्चा नहीं हो रही है. लेकिन, पिछले साल ये हॉट-टॉपिक बना हुआ था. इसकी वजह से काफी लोगों को अमीर बनने का भी मौका मिला. हालांकि, कई लोग अपनी जमा-पूंजी क्रिप्टो में लगाकर कंगाल भी हो गए. लेकिन, हम यहां पर Cryptocurrency के नाम पर हुए एक बड़े स्कैम के बारे में बात करने वाले हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, क्रिप्टो के नाम पर बड़ा स्कैम Ruja Ignatova ने किया था. लोग इन्हें क्रिप्टो-क्वीन के नाम से भी जानते हैं. रुजा इग्नातोवा ने क्रिप्टो करेंसी की लोकप्रियता का फायदा उठाकर लोगों को फर्जी क्रिप्टो में पैसे लगवा दी थी.


साल 2014 में लॉन्च हुई थी OneCoin-


लोग केवल उनकी बातों से प्रभावित होकर पैसे लगाने लगे थे. साल 2014 में पीएचडी होल्डर रुजा इग्नातोवा ने अपनी क्रिप्टोकरेंसी को लॉन्च किया था. हालांकि, ये क्रिप्टोकरेंसी का शुरुआती दौर था. लेकिन लोगों को इससे अमीर बनने के सपने दिखाए गए.
इस करेंसी का नाम OneCoin रखा गया था. इसका विस्तार कई देशों में क्रिप्टो क्वीन ने किया. वो लोगों को OneCoin खरीदने और इसको समझने के लिए एजुकेशन मैटेरियल खरीदने के लिए कहती थी. लोग उनके बोलने से प्रभावित हो जाते और लाखों रुपये इन्वेस्ट कर देते हैं.

लगभग 2 साल तक लाखों लोगों ने इसमें पैसे लगाए. उसने लोगों को विश्वास दिलाया कि OneCoin की वैल्यू बिटक्वॉइन से भी आगे जाएगी. इसके लिए क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं वो कई सेमिनार करती थी. कई बड़ी मैग्जिन में उसने ऐड न्यूज के फॉर्म में पब्लिश करवाई. लोग इन ऐड्स को सही न्यूज मानकर उससे जुड़ते चले गए.


छोटा पैकेज 140 यूरो का था-

रिपोर्ट के अनुसार, वनक्वॉइन का सबसे छोटा पैकेज 140 यूरो का था और सबसे बड़ा एक लाख 18 हजार यूरो का. लोगों से एक्सचेंज खोलने का वादा किया गया था, जिससे भविष्य में वो अपने OneCoin डॉलर या यूरो में बदल सकते थे.
इस दौरान कई क्रिप्टोकरेंसी सपोर्टर को OneCoin पर संदेह होने लगा और वो इसको लेकर Ruja Ignatova से जवाब चाहते थे. Ruja Ignatova सबके सवालों का जवाब देने का वादा कर फरार हो गई. उसने 30 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का स्कैम किया.

क्रिप्टो में निवेश से पहले जरूर करें वेरिफाई-


आपको बता दें कि OneCoin कोई ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर बेस्ड था ही नहीं. ब्लॉकचेन वैसी टेक्वनोलॉजी है जिस पर बिटक्वाइन और दूसरी क्रिप्टोकरेंसी काम करती है. लोग केवल मार्केटिंग और उसकी बातों में आकर इनवेस्ट करने लगे थे. इस वजह से किसी भी नई क्रिप्टोकरेंसी में पैसे लगाने से पहले उसे वेरिफाई करने की सलाह लोगों को दी जाती है. फिलहाल मूल रूप से बुल्गारिया की रहने वाली रुजा इग्नातोवा FBI के टॉप 10 मोस्ट वांटेड लिस्ट में शामिल है.

Around the web

Latest

Featured

You may like

About Us

HR Breaking News Network – A digital news platform that will give you all the news of Haryana which is necessary for you. You will bring all the news related to your life which affects your life. From the political corridors to the discussion of the: Village Chaupal, from the farm barn to the ration shop, from the street games to playground, from the city’s hospital to your health issue , there will be news of you. In the country, your health to health insurance updates, kitchen or self care, dressing or dieting, election or nook meeting, entertainment or serious crime, from small kitchen gadgets to mobile and advance technology, by joining us you will be able to stay up to date.

Crypto-Queen : हुस्न के जाल में ऐसा फंसाया, बातों के प्रभाव से सबको नचाया; जानिए कौन है ये क्रिप्टो-क्वीन जिसने किया 30 हजार करोड़ क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं से ज्यादा का स्कैम

Cryptocurrency को लेकर अभी ज्यादा चर्चा नहीं हो रही है। लेकिन, पिछले साल ये हॉट-टॉपिक बना हुआ था। इसकी वजह से काफी लोगों को अमीर बनने का भी मौका मिला। हालांकि, कई लोग अपनी जमा-पूंजी क्रिप्टो में लगाकर कंगाल भी हो गए। लेकिन, हम यहां पर Cryptocurrency के नाम पर हुए एक बड़े स्कैम के बारे में बात करने वाले हैं।

मीडिया क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं रिपोर्ट्स के अनुसार, क्रिप्टो के नाम पर बड़ा स्कैम Ruja Ignatova ने किया था। लोग इन्हें क्रिप्टो-क्वीन के नाम से भी जानते हैं। रुजा इग्नातोवा ने क्रिप्टो करेंसी की लोकप्रियता का फायदा उठाकर लोगों को फर्जी क्रिप्टो में पैसे लगवा दी थी।

Cryptocurrency के नाम पर इस खूबसूरत लड़की ने किया था सबसे बड़ा Scam, इनवेस्ट से पहले इन बातों का रखें ख्याल - Tech News AajTak

साल 2014 में लॉन्च हुई थी OneCoin

लोग केवल उनकी बातों से प्रभावित होकर पैसे लगाने लगे थे। साल 2014 में पीएचडी होल्डर रुजा इग्नातोवा ने अपनी क्रिप्टोकरेंसी को लॉन्च किया था। हालांकि, ये क्रिप्टोकरेंसी का शुरुआती दौर था। लेकिन लोगों को इससे अमीर बनने के सपने दिखाए गए।

इस करेंसी का नाम OneCoin रखा गया था। इसका विस्तार कई देशों में क्रिप्टो क्वीन ने किया। वो लोगों को OneCoin खरीदने और इसको समझने के लिए एजुकेशन मैटेरियल खरीदने के लिए कहती थी। लोग उनके बोलने से प्रभावित हो जाते और लाखों रुपये इन्वेस्ट कर देते हैं।

Ruja Ignatova: From crypto queen to FBI

लगभग 2 साल तक लाखों लोगों ने इसमें पैसे लगाए। उसने लोगों को विश्वास दिलाया कि OneCoin की वैल्यू बिटक्वॉइन से भी आगे जाएगी। इसके लिए वो कई सेमिनार करती थी। कई बड़ी मैग्जिन में उसने ऐड न्यूज के फॉर्म में पब्लिश करवाई। लोग इन ऐड्स को सही न्यूज मानकर उससे जुड़ते चले गए।

छोटा पैकेज 140 यूरो का था

रिपोर्ट के अनुसार, वनक्वॉइन का सबसे छोटा पैकेज 140 यूरो का था और सबसे बड़ा एक लाख 18 हजार यूरो का। लोगों से एक्सचेंज खोलने का वादा किया गया था, जिससे भविष्य में वो अपने OneCoin डॉलर या यूरो में बदल सकते थे।

Ruja Ignatova: the crooked cryptoqueen | MoneyWeek

इस दौरान कई क्रिप्टोकरेंसी सपोर्टर को OneCoin पर संदेह होने लगा और वो इसको लेकर Ruja Ignatova से जवाब चाहते थे। Ruja Ignatova सबके सवालों का जवाब देने का वादा कर फरार हो गई। उसने 30 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का स्कैम किया।

क्रिप्टो में निवेश से पहले जरूर करें वेरिफाई

आपको बता दें कि OneCoin कोई ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर बेस्ड था ही नहीं। ब्लॉकचेन क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं वैसी टेक्वनोलॉजी है जिस पर बिटक्वाइन और दूसरी क्रिप्टोकरेंसी काम करती है। लोग केवल मार्केटिंग और उसकी बातों में आकर इनवेस्ट करने लगे थे।

Ruja Ignatova - Wikipedia

इस वजह से किसी भी नई क्रिप्टोकरेंसी में पैसे लगाने से पहले उसे वेरिफाई करने की सलाह लोगों को दी जाती है। फिलहाल मूल रूप से बुल्गारिया की रहने वाली रुजा इग्नातोवा FBI के टॉप 10 मोस्ट वांटेड लिस्ट में शामिल है।

रेटिंग: 4.64
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 649
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *