रणनीति विचार

ब्रोकर विश्वसनीयता

ब्रोकर विश्वसनीयता
गांधी ओपन यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली
www.ignou.ac.in

ब्रोकर विश्वसनीयता

अस्वीकरण :
इस वेबसाइट पर दी की गई जानकारी, प्रोडक्ट और सर्विसेज़ बिना किसी वारंटी या प्रतिनिधित्व, व्यक्त या निहित के "जैसा है" और "जैसा उपलब्ध है" के आधार पर दी जाती हैं। Khatabook ब्लॉग विशुद्ध रूप से वित्तीय प्रोडक्ट और सर्विसेज़ की शैक्षिक चर्चा के लिए हैं। Khatabook यह गारंटी नहीं देता है कि सर्विस आपकी आवश्यकताओं को पूरा करेगी, या यह निर्बाध, समय पर और सुरक्षित होगी, और यह कि त्रुटियां, यदि कोई हों, को ठीक किया जाएगा। यहां उपलब्ध सभी सामग्री और जानकारी केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है। कोई भी कानूनी, वित्तीय या व्यावसायिक निर्णय लेने के लिए जानकारी पर भरोसा करने से पहले किसी पेशेवर से सलाह लें। इस जानकारी का सख्ती से अपने जोखिम पर उपयोग करें। वेबसाइट पर मौजूद किसी भी गलत, गलत या अधूरी जानकारी के लिए Khatabook जिम्मेदार नहीं होगा। यह सुनिश्चित करने के हमारे प्रयासों के बावजूद कि इस वेबसाइट पर निहित जानकारी अद्यतन और मान्य है, Khatabook किसी भी उद्देश्य के लिए वेबसाइट की जानकारी, प्रोडक्ट, सर्विसेज़ या संबंधित ग्राफिक्स की पूर्णता, विश्वसनीयता, ब्रोकर विश्वसनीयता सटीकता, संगतता या उपलब्धता की गारंटी नहीं देता है।यदि वेबसाइट अस्थायी रूप से अनुपलब्ध है, तो Khatabook किसी भी तकनीकी समस्या या इसके नियंत्रण से परे क्षति और इस वेबसाइट तक आपके उपयोग या पहुंच के परिणामस्वरूप होने वाली किसी भी हानि या क्षति के लिए उत्तरदायी नहीं होगा।

We'd love to hear from you

We are always available to address the needs of our users.
+91-9606800800

स्टॉक ब्रोकिंग के बारे मे कितना जानते हैं आप? शेयर मार्केट की जानकारी रहती है इनके पास

do you know about stock broker career

आज के युग मे मार्केटिंग, बैंकिग, स्टॉक ब्रोकिंग, अकाउंटेंसी के क्षेत्र में दिन-प्रतिदिन प्रगति हो रही है साथ ही इन क्षेत्रों में करियर के अवसर भी लगातार बढ़ रहे हैं। कॉमर्स स्ट्रीम के छात्रों के लिए स्टॉक ब्रोकर एक आकर्षक करियर माना जाता है। अगर आप यह समझते हैं कि सेंसेक्स और निफ्टी कैसे काम करता है और आपको इन सब क्षेत्रों में रुचि है तो स्टॉक ब्रोकिंग क्षेत्र का चयन करना आपके करियर के लिए यकीनन सही होगा।

दरअसल, स्टॉक्स और अन्य सिक्योरिटीज को खरीदने और बेचने की प्रोसेस को 'स्टॉक ब्रोकिंग' कहा जाता है। हमारे देश में स्टॉक मार्केट की फील्ड में स्टूडेंट्स के लिए बहुत अच्छे करियर ऑप्शन्स उपलब्ध हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक वित्त वर्ष 2018-19 में इंडियन ब्रोकिंग इंडस्ट्री की ग्रोथ रेट (पिछले वर्ष की मॉडरेट ग्रोथ रेट) 5-10 फीसदी से ज्यादा है और एस्टीमेटेड रेवेन्यु 19-20 हजार करोड़ के आस-पास रहेगा। इसलिए, भारत में स्टॉक ब्रोकिंग की फील्ड में कैंडिडेट्स का भविष्य आशाजनक है और कुछ वर्षों के वर्क एक्सपीरियंस के बाद इन प्रोफेशनल्स को काफी अच्छा सालाना सैलरी पैकेज भी मिलता है।

स्टॉक ब्रोकर किसे कहते हैं?

स्टॉक ब्रोकर वो होता है जो शेयर मार्केट में अपने क्लाइंट के लेन-देन के मामलों को देखता है। एक स्टॉक ब्रोकर स्टॉक एक्सचेंज और निवेशक के बीच एक कड़ी का काम करता है। बिना ब्रोकर के कोई भी निवेशक अपना सौदा शेयर मार्केट में नहीं डाल सकता है। अगर आप शेयर मार्केट में कदम रखना चाहते हैं तो आपको एक डीमैट अकाउंट और एक ट्रेडिंग अकाउंट की जरूरत पड़ती है, ब्रोकर विश्वसनीयता और आपके यह दोनों अकाउंट एक स्टॉक ब्रोकर संभालता है।

वह अपने क्लाइंट को शेयर मार्केट में हो रहें उतार-चढ़ाव की भी जानकारी देता है। वह शेयर मार्केट में कब, कैसे, क्यों पैसे निवेश करना चाहिए यह भी बताता है। अगर किसी को शेयर मार्केट में निवेश करना हो तो स्टॉक ब्रोकर ही सही राय दे सकता है जिससे कि निवेश करने वाले व्यक्ति को फायदा हो।

कोर्सेसस्टॉक ब्रोकर के रूप में अपना करियर बनाने के लिए उम्मीदवार बैंकिंग एंड फाइनेंस में डिप्लोमा कर सकते है। यह एक वर्ष का कोर्स होता है। इसमें बैंकिंग आपरेशंस, फाइने फाइनेस जैसे विषय पढ़ाए जाते हैं।

योग्यता

ग्रेजुएशन कर चुके छात्र और ग्रेजुएशन अंतिम वर्ष के छात्र पीजी डिप्लोमा इन बैंकिंग एंड फाइनेस कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं और स्टॉक ब्रोकर बनने की दिशा में अपना पहला कदम रख सकते हैं। इस कोर्स के लिए छात्र को कॉमर्स स्ट्रीम से 50 प्रतिशत अंक के साथ उर्तीण होना चाहिए। इस फील्ड में करियर बनाने वाले छात्रों को बिजनेस अकाउंटिंग और फाइनेंस जैसे क्षेत्रा में रूचि होनी चाहिए।

प्रमुख संस्थान

गांधी ओपन यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली
www.ignou.ac.in

टीकेडब्ल्यूएस इंस्टिट्यूट ऑफ बैंकिंग एंड फाइनेंस, नई दिल्ली,
www.tkwsibf.edu.in -

आज के युग मे मार्केटिंग, बैंकिग, स्टॉक ब्रोकिंग, अकाउंटेंसी के क्षेत्र में दिन-प्रतिदिन प्रगति हो रही है साथ ही इन क्षेत्रों में करियर के अवसर भी लगातार बढ़ रहे हैं। कॉमर्स स्ट्रीम के छात्रों के लिए स्टॉक ब्रोकर एक आकर्षक करियर माना जाता है। अगर आप यह समझते हैं कि सेंसेक्स और निफ्टी कैसे काम करता है और आपको इन सब क्षेत्रों में रुचि है तो स्टॉक ब्रोकिंग क्षेत्र का चयन करना आपके करियर के लिए यकीनन सही होगा।

दरअसल, स्टॉक्स और अन्य सिक्योरिटीज को खरीदने और बेचने की प्रोसेस को 'स्टॉक ब्रोकिंग' कहा जाता है। हमारे देश में स्टॉक मार्केट की फील्ड में स्टूडेंट्स के लिए ब्रोकर विश्वसनीयता बहुत अच्छे करियर ऑप्शन्स उपलब्ध हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक वित्त वर्ष 2018-19 में इंडियन ब्रोकिंग इंडस्ट्री की ग्रोथ रेट (पिछले वर्ष की मॉडरेट ग्रोथ रेट) 5-10 फीसदी से ज्यादा है और एस्टीमेटेड रेवेन्यु 19-20 हजार करोड़ के आस-पास रहेगा। इसलिए, भारत में स्टॉक ब्रोकिंग की फील्ड में कैंडिडेट्स का भविष्य आशाजनक है और कुछ वर्षों के वर्क एक्सपीरियंस के बाद इन प्रोफेशनल्स को काफी अच्छा सालाना सैलरी पैकेज भी मिलता है।

स्टॉक ब्रोकर किसे कहते हैं?

स्टॉक ब्रोकर वो होता है जो शेयर मार्केट में अपने क्लाइंट के लेन-देन के मामलों को देखता है। एक स्टॉक ब्रोकर स्टॉक एक्सचेंज और निवेशक के बीच एक कड़ी का काम करता है। बिना ब्रोकर ब्रोकर विश्वसनीयता ब्रोकर विश्वसनीयता के कोई भी निवेशक अपना सौदा शेयर मार्केट में नहीं डाल सकता है। अगर आप शेयर मार्केट में कदम रखना चाहते हैं तो आपको एक डीमैट अकाउंट और एक ट्रेडिंग अकाउंट की जरूरत पड़ती है, और आपके यह दोनों अकाउंट एक स्टॉक ब्रोकर संभालता है।

वह अपने क्लाइंट को शेयर मार्केट में हो रहें उतार-चढ़ाव की भी जानकारी देता है। वह शेयर मार्केट में कब, कैसे, क्यों पैसे निवेश करना चाहिए यह भी बताता है। अगर किसी को शेयर मार्केट में निवेश करना हो तो स्टॉक ब्रोकर ही सही राय दे सकता है जिससे कि निवेश करने वाले व्यक्ति को फायदा हो।

कोर्सेसस्टॉक ब्रोकर के रूप में अपना करियर बनाने के लिए उम्मीदवार बैंकिंग एंड फाइनेंस में डिप्लोमा कर सकते है। यह एक वर्ष का कोर्स होता है। इसमें बैंकिंग आपरेशंस, फाइने फाइनेस जैसे विषय पढ़ाए जाते हैं।

योग्यता

ग्रेजुएशन कर चुके छात्र और ग्रेजुएशन अंतिम वर्ष के छात्र पीजी डिप्लोमा इन बैंकिंग एंड फाइनेस कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं और स्टॉक ब्रोकर बनने की दिशा में अपना पहला कदम रख सकते हैं। इस कोर्स के लिए छात्र को कॉमर्स स्ट्रीम से 50 प्रतिशत अंक के साथ उर्तीण होना चाहिए। इस फील्ड में करियर बनाने वाले छात्रों को बिजनेस अकाउंटिंग और फाइनेंस जैसे क्षेत्रा में रूचि होनी चाहिए।

आप भी ले रहे हैं ब्रोकर की मदद से लोन तो रखें इन बातों का खास ख्याल, नहीं तो बाद में हो सकता है बड़ा नुकसान

ब्रोकर की मदद से लोन लेते वक्त इस बात का खास ख्याल रखें कि आप जिस तरह का भी लोन ले रहे हैं पहले इसकी सही जानकारी जरूर बताएं.

By: ABP Live | Updated at : 15 Mar 2022 02:38 PM (IST)

दिन पर दिन महंगाई बढ़ती जा रहा है. रोजाना की होने वाली कमाई से घर चलाना बहुत मुश्किल हो गया है. ऐसी स्थिति जीवन में कोई अतिरिक्त खर्च जैसे घर खरीदना, दुकान खरीदना , गाड़ी खरीदना, आदि कार्यों के लोन की जरूरत पड़ती है. ऐसे में लोग बैंक की तरफ भरते हैं. बैंक और फाइनेंशियल कंपनी ग्राहकों को होम लोन, पर्सनल लोन, कार लोन, बाइक लोन आदि की सुविधा देती है. लेकिन, कई बार सिबिल स्कोर खराब होने या किसी अन्य कारण की वजह से जरूरत के हिसाब से लोगों को लोन नहीं मिल पाता है. ऐसी स्थिति में लग ब्रोकर विश्वसनीयता मजबूरी में ब्रोकर की मदद लेते हैं.

कई बार लोग ब्रोकर की मदद से लोन तो ले लेते हैं लेकिन, बाद में इस कारण बड़ी परेशानी पड़ जाते हैं. ऐसे में हम आपको कुछ ऐसे टिप्स बताने वाले हैं जो आपको ब्रोकर के द्वारा लोन लेने पर फॉलो करना चाहिए. तो चलिए जानते हैं उन बातों के बारे में-

सारे काम लिखित में करें-
ब्रोकर की मदद से लोन लेते वक्त इस बात कान खास ख्याल रखें कि आप जिस तरह का भी लोन ले रहे हैं पहले इसकी सही जानकारी जरूर बताएं. इसके साथ ही लोन चुकाने पर ब्याज की सही जानकारी जरूर लें. इसके साथ ही सारी जानकारी को लिखित में जरूर ब्रोकर विश्वसनीयता लें. कई बार कमीशन पाने के चक्कर में ब्रोकर आपसे कई वादा कर देता है लेकिन, बाद में उससे मुकर सकता है. इसलिए सारी चीजों का डॉक्यूमेंटेशन करना बहुत जरूरी है.

किसी भी डॉक्यूमेंट पर साइन करने ब्रोकर विश्वसनीयता से पहले सही जानकारी लें-
कई बार ब्रोकर लोगों से कमीशन लेने के चक्कर में बड़े-बड़े वादे कर देते है. लेकिन, असली डॉक्यूमेंट उन चीजों को गायब रहता है. ऐसे में आप किसी भी तरह के डॉक्यूमेंट में साइन करने से पहले उसे अच्छी तरह से पढ़ लें.इसके बाद ही साइन करें. इसके बाद में किसी तरह की परेशानी नहीं होगी.

News Reels

ब्रोकर को कमीशन पहले न दें-
ब्रोकर के द्वारा लोन लेने पर इस बात का खास ख्याल रखने की जरूरत है कि लोन मिलने से पहले ब्रोकर को कमीशन न दें. यह देख गया है कि आमतौर पर एक लोन के लिए ब्रोकर 5 से 10 प्रतिशत तक का लोन लेते हैं.अगर कमीशन देने बाद किसी कारणवश आपका वोन कैंसिल हो गया तो ब्रोकर अपने पैसे को वापस लौटाने के लिए भी मना कर सकता है. इसलिए पहले लोन की राशि अपने अकाउंट में प्राप्त कर लें उसके बाद ही उसका कमीशन उसे दें. इसके साथ ही ब्रोकर की बैंकग्राउड की सही जानकारी लेना भी बहुत जरूरी है.

ये भी पढ़ें-

Published at : 15 Mar 2022 02:22 PM (IST) Tags: Home Loan Tips Personal Loan Tips Loan Tips Loan Approval Tips हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें abp News पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट एबीपी न्यूज़ पर पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत, कोरोना Vaccine से जुड़ी ख़बरें। For ब्रोकर विश्वसनीयता more related stories, follow: Business News in Hindi

जॉन डियर 5060 E ट्रैक्टर : 60 एचपी में शक्तिशाली और विश्वसनीय ट्रैक्टर

जॉन डियर 5060 E ट्रैक्टर : 60 एचपी में शक्तिशाली और विश्वसनीय ट्रैक्टर

जॉन डियर 5060 E ट्रैक्टर की कीमत, फीचर्स और स्पेसिफिकेशन्स की जानकारी

जॉन डियर कंपनी के ट्रैक्टर अपनी विश्वस्तरीय तकनीक के कारण किसानों के बीच काफी लोकप्रिय है। जॉन डियर ट्रैक्टर मजबूत, शक्तिशाली और विश्वसनीय होते हैं। जॉन डियर 5060 E ट्रैक्टर भी अपने खास फीचर्स की वजह से किसानों द्वारा बहुत अधिक पसंद किया जाता है। इस ट्रैक्टर का लुक बहुत शानदार है। यह ट्रैक्टर सिंगल पीस बोनट के साथ आता है, जो हुड लॉक से आसानी से खुलता है। ट्रैक्टर का फ्रंट एक्सल हैवी ड्यूटी और एडजस्टेबल है। जबकि रियर एक्सल हैवी ड्यूली वाला प्लेनेटरी ड्राइव रिडक्शन के साथ आता है। ड्राइवर तक इंजन की गर्म हवा नहीं पहुंचे, इसके लिए सेफ्टी गार्ड दिए गए हैं। इस ट्रैक्टर से भारी कृषि उपकरण भी आसानी से चलाए जा सकते हैं। यह ट्रैक्टर ढुलाई के कार्य में भी बहुत शानदार है।

जॉन डियर 5060 E ट्रैक्टर के बारे में अधिक जानकारी के लिए यह वीडियो देखें

जॉन डियर 5060 E ट्रैक्टर वेरिएंट

जॉन डियर 5060 E ट्रैक्टर तीन वेरिएंट में आता है।

  • जॉन डियर 5060 E स्टैंडर्ड
  • जॉन डियर 5060 E ऐसी केबिन
  • जॉन डियर 5060 E पावर रिवरसर

ये तीनों वेरिएंट 2 व्हील ड्राइव और 4 व्हील ड्राइव में आते हैं। ट्रैक्टर जंक्शन की इस पोस्ट में जॉन डियर 5060 E स्टैंडर्ड वेरिएंट के फीचर्स, स्पेसिफकेशन्स और कीमत के बारे में पूरी जानकारी दी गई है।

इंजन

जॉन डियर 5060 E स्टैंडर्ड ट्रैक्टर में 60 हॉर्स पावर और रोटरी पंप वाला 3 सिलेंडर इंजन दिया गया है। इसमें टर्बो चार्जड 2900 सीसी की इंजन क्षमता दी गई है। यह ट्रैक्टर 2400 इंजन रेटेड आरपीएम जनरेट करता है। कूलिंग सिस्टम कूलैंट कूल्ड विथ ओवरफ्लो रिजर्वायर के साथ दिया गया है। एयर फिल्टर ड्राई टाइप, ड्यूल एलिमेंट टाइप का दिया गया है। यह ट्रैक्टर 212.5 न्यूटन मीटर की अधिकतम टॉर्क जनरेट करता है। बैकअप टॉर्क 18.91 प्रतिशत है।

ट्रांसमिशन

यह ट्रैक्टर ड्यूल क्लच के साथ आता है और इसमें कॉलर शिफ्ट टाइप का ट्रांसमिशन दिया गया है। 9 गियर आगे के लिए और 3 गियर पीछे के लिए दिए गए हैं। इस ट्रैक्टर की रोड पर चलने की अधिकतम स्पीड आगे की तरफ 32.8 किलोमीटर प्रतिघंटा है जबकि पीछे की ओर 25.4 किलोमीटर प्रतिघंटा है।

स्टीयरिंग

जॉन डियर 5060 E ट्रैक्टर का सबसे खास फीचर्स इसका एडजस्टेबल स्टीयरिंग है। यह ट्रैक्टर पावर स्टीयरिंग के साथ आता है। जिसका स्टीयरिंग कॉलम टिल्टेबल टाइप का है। चालक अपनी सुविधा के अनुसार स्टीयरिंग को 25 डिग्री एंगल तक ऊपर व नीचे कर सकता है। इस ट्रैक्टर में एडवांस तकनीक वाले सेल्फ एडजस्टिंग, सेल्फ इक्यूलाइजिंग, हाइड्रोकली एक्चुएटेड तेल में डूबे हुए डिस्क ब्रेक दिए गए हैं।

पीटीओ

इस ट्रैक्टर में 6 स्पलाइन वाली इनडिपेंडेट पीटीओ दी गई है। स्टैंडर्ड 540 पीटीओ आरपीएम इंजन के 2376 रेटेड आरपीएम पर जनरेट होती है। इकॉनोमी 540 पीटीओ आरपीएम इंजन के 1705 रेटेड आरपीएम पर जनरेट होती है। इस ट्रैक्टर में रिवर्स पीटीओ भी मिलती है। पीटीओ पावर 51 एचपी है।

हाइड्रोलिक्स

जॉन डियर 5060 E ट्रैक्टर की हाइड्रोलिक लिफ्टिंग क्षमता 2000 किलोग्राम है। इस ट्रैक्टर के 3 पाइंट लिंकेज एडीडीसी टाइप के होते हैं। इस ट्रैक्टर के साथ रिवर्सिबल, एमबी प्लाउ, लेजर लेवलर चलाने के लिए कंपनी फिटेड डबल डीसी वॉल्व दिया गया है। यह ट्रैक्टर हार्वेस्टर के साथ भी बेहतर परफोरमेंस करता है।

टायर

इस ट्रैक्टर के अगले टायर 6.5x20 और पिछले टायर 16.9x30 के साइज में आते हैं। यह ट्रैक्टर 2 ब्रोकर विश्वसनीयता व्हील ड्राइव और 4 व्हील ड्राइव वेरिएंट में आता है। यहां आपको 2 व्हील वेरिएंट की जानकारी दी गई है।

डाईमेंशन्स

इस ट्रैक्टर का कुल वजन 2130 किलो है। व्हीलबेस 2050 एमएम है। ट्रैक्टर की कुल लंबाई 3540 एमएम और चौड़ाई 1885 एमएम है। ग्राउंड क्लीयरेंस 0470 एमएम है। ब्रेक के साथ टर्निंग रेडियस 3181 एमएम है। इस ट्रैक्टर में डीजल टैंक 68 लीटर का दिया गया है।

कीमत

जॉन डियर 5060 E ट्रैक्टर की कीमत 9.20 लाख रुपए से 9.80 लाख रुपए है। यह एक्सशोरूम कीमत है। इस ट्रैक्टर की ऑन रोड कीमत आपके राज्य व शहर के अनुसार अलग-अलग हो सकती है। कंपनी इस ट्रैक्टर पर 5 साल या 5 हजार घंटे की वारंटी प्रदान करती है।

अन्य खास फीचर्स

इस ट्रैक्टर के कुछ खास फीचर्स दिए गए हैं। जिनमें EQRL सिस्टम सबसे प्रमुख है जिसे इलेक्ट्रिक क्विक रेज एंड लोवर तकनीक कहते हैं। इस फीचर्स में ट्रैक्टर के पीछे दो स्विच दिए गए हैं जिनकी मदद से किसी इम्प्लीमेंट में आसानी से जोड़ा जा सकता है। ट्रैक्टर में स्मार्ट ब्रेक का फीचर दिया गया है। इस ट्रैक्टर में गो होम का फीचर्स भी मिलता है। इस फीचर्स में ट्रैक्टर को खड़ा करने के बाद घर तक पहुंचने के दौरान लाइट कुछ सेकंड के लिए जलती रही है।
कंपनी इस ट्रैक्टर के साथ ब्लास्ट वेट, कैनोपी, कैनोपी होल्डर, वैगन हिच, ड्रा बॉर, रिफ्लेक्टर, वॉटल होल्डर आदि फीचर्स प्रदान करती है।

जानें, जॉन डियर 5060 E ट्रैक्टर में आपको क्या फीचर्स मिलते हैं।

स्पेसिफिकेशन्स जॉन डियर 5060 E ट्रैक्टर
इंजन एचपी 60 एचपी
सिलेंडर 3 सिलेंडर
ईआरपीएम 2400
पीटीओ एचपी 51 एचपी
गियर संख्या 9 फॉरवर्ड + 3 रिवर्स
अधिकतम स्पीड 32.8 किलोमीटर प्रतिघंटा
स्टीयरिंग पावर स्टीयरिंग
ब्रेक तेल में डूबे हुए डिस्क ब्रेक
लिफ्टिंग क्षमता 2000 किलोग्राम
कीमत 9.20-9.80 लाख* रुपए


किसान भाइयों ट्रैक्टर जंक्शन की इस पोस्ट में आपको जॉन डियर 5060 E ट्रैक्टर के बारे में सभी जानकारी दी गई है। अगर आप इसका वीडियो देखना चाहते हैं तो यहां क्लिक करें। इसके अलावा आप ट्रैक्टर जंक्शन का मोबाइल एप डाउनलोड करके सभी कंपनियों के ट्रैक्टरों के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।


ट्रैक्टर जंक्शन हमेशा आपको अपडेट रखता है। इसके लिए ट्रैक्टरों के नये मॉडलों और उनके कृषि उपयोग के बारे में एग्रीकल्चर खबरें प्रकाशित की जाती हैं। प्रमुख ट्रैक्टर कंपनियों जॉन डियर ट्रैक्टर , कुबोटा ट्रैक्टर आदि की मासिक सेल्स रिपोर्ट भी हम प्रकाशित करते हैं जिसमें ट्रैक्टरों की थोक व खुदरा बिक्री की विस्तृत जानकारी दी जाती है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

अगर आप नए ट्रैक्टर , पुराने ट्रैक्टर , कृषि उपकरण बेचने या खरीदने के इच्छुक हैं और चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा खरीददार और विक्रेता आपसे संपर्क करें और आपको अपनी वस्तु का अधिकतम मूल्य मिले तो अपनी बिकाऊ वस्तु को ट्रैक्टर जंक्शन के साथ शेयर करें।

ट्रेडिंग शुरू करने से पहले स्टॉकब्रोकर कैसे चुनें?

आर्थिक मंदी के बावजूद, खोले जा रहे नए डीमैट खातों की संख्या जो मार्च २०१९ तक 35.9 मिलियन थी वो मार्च 2020 में बढ़कर 40.8 मिलियन हो गई है। इसके अलावा, इक्विटी कैपिटल मार्केट्स ने अगस्त 2020 को समाप्त.

ट्रेडिंग शुरू करने से पहले स्टॉकब्रोकर कैसे चुनें?

आर्थिक मंदी के बावजूद , खोले जा रहे नए डीमैट खातों की संख्या जो मार्च २०१९ तक 35.9 मिलियन थी वो मार्च 2020 में बढ़कर 40.8 मिलियन हो गई है । इसके अलावा , इक्विटी कैपिटल मार्केट्स ने अगस्त 2020 को समाप्त होने वाली 5 महीने की में अवधि 24% की साल दर साल की वृद्धि दिखाई है। नए डीमैट खातों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि और शेयर बाजार गतिविधियों में बढ़ोतरी भारतीय शेयर बाजार में रीटेल निवेशकों की बढ़ते हुए भागीदारी को दर्शाता है।

शेयर बाजार में ट्रेडिंग करने वाले नए निवेशकों के पास फुल -सर्विस ब्रोकरेज फर्म और डिस्काउंट ब्रोकरेज फर्म यह दो विकल्प होते है।

डिस्काउंट ब्रोकरेज बनाम फुल -सर्विस ब्रोकरेज

भारतीय ब्रोकरेज उद्योग पिछले कुछ वर्षों में इन दो प्रमुख सेवाओं को प्रदान कर रही है -

डिस्काउंट ब्रोकर : एक डिस्काउंट ब्रोकर वह है जो डीमैट और ट्रेडिंग खातों की बुनियादी सेवाएं किफायती मूल्य में प्रदान करता है। यहाँ आप न केवल सब्सक्रिप्शन प्लान्स का चयन कर सकते हैं बल्कि कम ब्रोकरेज दरों का लाभ भी उठा सकते है।

फुल -सर्विस ब्रोकर : ये वित्तीय संस्थान हैं जो स्टॉक ट्रेडिंग सेवाओं के साथ-साथ अनुसंधान और सलाह प्रदान करते हैं। हालांकि, वे तुलनात्मक रूप से अधिक ब्रोकरेज लेते हैं जो आपके ट्रेडिंग वॉल्यूम के आनुपातिक होते हैं।

आजकल अधिकतर नए निवेशकों का डिस्काउंट ब्रोकरेज की ओर अधिक झुकाव है क्योंकि यह उनको कम मूल्य पर अधिक ट्रेड करने का मौका देता है।

ब्रोकर चुनते समय इन तथ्यों का विचार करे : ब्रोकर का चयन आपके ट्रेडिंग करने के अनुभव और ट्रेडिंग के दौरान जो ब्रोकरेज के खर्च आते हैं उसपे उल्लेखनीय प्रभाव डालेगा। नीचे कुछ महत्वपूर्ण मापदंड दिए गए हैं जिनका मूल्यांकन आप एक सही ब्रोकर को चुनने के दौरान कर सकते है।

ब्रोकरेज शुल्क : ब्रोकरेज शुल्क का महत्व बहुत है चाहे आप कभी कभी या बढ़ी मात्रा में निरंतर निवेश करने में रूचि रखते हो। आपको हर खरीद-बिक्री के लिए ब्रोकरेज शुल्क का भुगतान करना होता है और इसलिए कम ब्रोकरेज शुल्क आपके कुल आय पे बहुत अधिक प्रभाव डालेगा। बजाज फाइनेंशियल सिक्योरिटीज लिमिटेड (बीएफएसएल) अपने विशिष्ट शुल्क मॉडल की सहायता से सबसे बेहतर ब्रोकरेज प्रदान करता है। बीएफएसएल के किफायती सब्सक्रिप्शन पैक्स की सहायता से आप इक्विटी (इंट्राडे और डिलीवरी) में हर आर्डर पे रु. ०.९९ का फ्लॅट रेट हासिल कर सकते है।

BFSL डीमैट खाते के माध्यम से रु. 999 (+GST) के सालाना सब्सक्रिप्शन चार्ज वाले पैक के साथ आप इक्विटी एफएंडओ ट्रेडिंग में हर आर्डर पे रु. ५ का फ्लॅट दर भी पा सकते हैं। इस प्रकार के कम ब्रोकरेज दरें एफएंडओ ट्रेडिंग में 75% तक बचत करने में सहायता कर सकते हैं।

इक्विटी एफएंडओ ट्रेडिंग पे 75 % तक के बचत का हिसाब बीएफएसएल के फ्लॅट रु. ५ ब्रोकरेज प्रति आर्डर और अन्य ब्रोकरेज जो रु. २० प्रति आर्डर इन दो ब्रोकरेज की तुलना करके होता है।

विश्वास : विश्वास एक महत्वपूर्ण पहलू है क्योंकि आप अपनी मेहनत से बचत करके निवेश कर रहे हैं। ऐसी घटनाएँ हुई हैं जिनमें निवेशकों के शेयर्स को उनके ज्ञान के बिना स्टॉक ब्रोकर द्वारा गिरवी रखा गया है। ऐसी घटनाएं निवेशकों के भरोसे को कमजोर करती हैं। हमेशा ऐसे ब्रोकर की तलाश करें जिसने बाजार में अपना विश्वास और विश्वसनीयता साबित किया है।

डिस्काउंट ब्रोकिंग भारत में नया है और इसी वजह से बाजार में अभी बहुत ब्रोकर विश्वसनीयता कम नाम है जो पूर्णतः स्थापित हो चुके हैं। मूल ब्रांड बजाज फाइनेंस लिमिटेड की विरासत और एक मजबूत लिक्विडिटी के साथ बीएफएसएल एक विश्वसनीय नाम है। इस कंपनी को क्रिसिल एएए/स्थिर का उच्च रेटिंग प्राप्त हुआ है। इसका मतलब है कि आपके निवेश बीएफएसएल के साथ सुरक्षित हैं।

सुरक्षा : आपके शेयर्स को किसी भी बाहरी पार्टी के दखलअंदाजी और खतरों से सुरक्षित रखना अनिवार्य है। इसलिए ऐसे ब्रोकर का चयन करना महत्वपूर्ण है जो अत्याधुनिक सुरक्षा मापदंड को अपनाते है। उदाहरण के तौर पे बीएसएफ़एल स्टॉक्स के बेचने पर टी-पिन पे आधारित प्रमाणीकरण को लागू किया है जो सीडीएसएल के नियम के अनुसार है। आप वन-टाइम प्रमाणीकरण पिन का उपयोग बिक्री ब्रोकर विश्वसनीयता को पूर्ण करने के लिए कर सकते है। यह आपके बिक्री पे एक अधिक सुरक्षा परत की तरह काम करता है।

सेवाओं की विस्तृत श्रृंखला : ट्रेडिंग गतिविधियाँ केवल स्टॉक ट्रेडिंग तक सीमित नहीं हैं। ट्रेडिंग में बढ़ते अनुभव के साथ आपको आईपीओ ( IPO ) , म्युचुअल फंड और अन्य में निवेश करने की आवश्यकता महसूस हो सकती है। एक सही ब्रोकर आपको मार्जिन ट्रेड फाइनेंसिंग (एमटीएफ) और लोन अगेंस्ट सिक्योरिटीज (एलएएस) जैसी सुविधाएँ प्रदान करेगा।

बीएफएसएल के साथ , आप इन सभी सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं। BFSL की मूल कंपनी BFL के माध्यम से, ग्राहक LAS सुविधा तक आसानी से पहुँच सकते हैं। BFL देश के सबसे बड़े NBFC में से एक है।

प्लेटफ़ॉर्म और खाता खोलना : बीएफएसएल के डिजिटल ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म आपको सुरक्षित मोबाइल और वेब पर ट्रेडिंग करने की सुविधा देते हैं। बिना कागज़ी काम किये खाता खोलने और सहज बैक-ऑफिस एकीकरण के साथ बीएफएसएल ट्रेडिंग को आसान बना देता है।

ग्राहक सेवा : आप एक ऐसा ब्रोकर चुनें जिसके पास एक स्थापित शिकायत निवारण प्रकिया और सहयोग उपलब्ध हो। अपनी मजबूत ग्राहक सेवा पद्धति के साथ बीएसएफ़एल एक अच्छे विकल्प के तौर पे उभरा है।

चाहे आप एक नए निवेशक हों, कभी कभी ट्रेडिंग करते हों, या एक पेशेवर निवेशक हो , बीएफएसएल रिटेल और एचएनआई ग्राहकों के लिए समान रूप से सेवाएं प्रदान करता है। सभी सेवाओं का लाभ उठाने के लिए बीएफएसएल के साथ डीमैट खाता खोलें और आज ही सहज ट्रेडिंग का अनुभव लें।

Disclaimer: ये कंटेंट Bajaj Finserv द्वारा वितरित किया गया है , कोई भी HT ग्रुप पत्रकार इस कंटेंट निर्माण में सामिल नहीं है |

रेटिंग: 4.66
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 310
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *